रविवार, 9 नवंबर 2014

(ग़ज़ल ) पत्थर दिल वालों की महफ़िल ...!

                                      दिल पत्थर का, घर पत्थर के ,ये पत्थर की बस्ती है,
                                      धन-दौलत के दानव  हैं जहां ,मानव की क्या हस्ती है !
                                       लूट सके जो इस दुनिया को खतरनाक इरादों से ,
                                       सिर्फ उसी के मोह-जाल में भोली दुनिया फँसती है !
                                       पंछी -पर्वत ,नदिया-पनघट ,हर कोई है दहशत में ,
                                       हरियाली के हत्यारों की हर-पल धींगा-मस्ती है !
                                       इंसानों का वेश बनाकर घूम रहे कातिल सौदागर ,
                                      बेच रहे जो जीवन महंगा ,मौत भले ही सस्ती है !
                                      पत्थर दिल वालों की महफ़िल में अपनी औकात कहाँ  ,
                                      हमें देखकर जिनकी आँखें नफरत से खूब हँसती हैं !
                                      जाने कब बदलेंगे सपने सचमुच यहाँ हकीकत में,
                                      तारीखों पे तारीख देती अदालत की बेदिल नस्ती है !
                                                                                   -स्वराज्य करुण

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें